एडवांस्ड सर्च

एफडीआई के विरोध व समर्थन की सियासत

'एजेंडा आजतक' में एफडीआई जैसे ज्‍वलंत मसले पर चर्चा के दौरान मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि रिटेल में एफडीआई आने से देश के लोगों से रोजगार छिन जाएंगे.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
आजतक ब्‍यूरोनई दिल्‍ली, 08 December 2012
एफडीआई के विरोध व समर्थन की सियासत

'एजेंडा आजतक' में एफडीआई जैसे ज्‍वलंत मसले पर चर्चा के दौरान मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि रिटेल में एफडीआई आने से देश के लोगों से रोजगार छिन जाएंगे.

एफडीआई के मसले पर मतभेद बरकरार
'एजेंडा आजतक' के सत्र 'एफडीआई का विरोध क्यों: विदेशी दुकान, बदलेगा हिंदुस्तान?' में चर्चा के दौरान शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि एफडीआई से किसी को फायदा नहीं होने जा रहा है. उन्‍होंने कहा कि अमेरिका ने भी अपने यहां रिटेल में एफडीआई लागू नहीं किया है. उन्‍होंने स्‍पष्‍ट किया कि वे एफडीआई के खिलाफ नहीं हैं, बल्कि यह किस क्षेत्र में आ रहा है, उसके खिलाफ हैं.

'एफडीआई का कोई बुरा असर नहीं'
दूसरी ओर, हरियाणा के मुख्‍यमंत्री भूपिंदर सिंह हुडा ने कहा कि एफडीआई का कोई बुरा असर नहीं होने वाला है. उन्‍होंने दावा किया कि रिटेल में एफडीआई उत्पादक और उपभोक्ता, दोनों के लिए ही लाभकारी है. उन्‍होंने कहा कि एफडीआई का विरोध सिर्फ राजनीति के लिए हो रहा है.

एफडीआई के मसले पर लोगों को आश्‍वस्‍त करते हुए भूपिंदर सिंह हुडा ने कहा कि इसके आने से छोटे दुकानदारों को नुकसान नहीं होगा. उन्‍होंने कहा कि इससे रोजगार भी पैदा होंगे और यह किसान के लिए भी फायदेमंद साबित होगा. उन्‍होंने कहा कि इन कंपनियों को 50 प्रतिशत इन्‍फ्रास्ट्रक्चर पर खर्च करना होगा.

भूपिंदर सिंह हुडा ने कहा कि बाजार को प्रतियोगी बनाने के लिए एफडीआई का फैसला बिल्कुल सही है. उन्‍होंने कहा कि जमाखोरों पर नकेल कसने के लिए एफडीआई लाना कारगर साबित होगा.

हर चीज पर राजनीति करना गलत
भूपिंदर सिंह हुडा की बातों का विरोध करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा, 'हमारा अनुभव है कि यह सफल नहीं हो सकेगा. किसानों के हित की रक्षा में हमारा राज्य समर्थ है. हर चीज को वोट के नजरिए से नहीं देखना चाहिए. हम सब भारत मां के लाल, भेदभाव का कहां सवाल?'

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay