एडवांस्ड सर्च

बिहार-झारखंड ने खोया रुतबा

पिछली यूपीए सरकार में बिहार-झारखंड से 14 केंद्रीय मंत्री थे लेकिन इस बार आंकड़ा दो पर ही सिमट गया. मंत्रियों की सूची । चुनाव परिणाम । शख्सियत । विश्‍लेषण । चुनाव पर विस्‍तृत कवरेज

Advertisement
अमिताभ श्रीवास्तव 02 June 2009
बिहार-झारखंड ने खोया रुतबा

बात पिछली यूपीए सरकार की है, जिसमें बिहार और झारखंड से 14 मंत्री हुआ करते थे. लेकिन इस बार यह आंकड़ा पूरी तरह से बदल गया है और केंद्रीय मंत्रिपरिषद में इन दोनों राज्‍यों का आंकड़ा इस बार दो पर आ गया है. कांग्रेस के दो सांसद जिन्हें केंद्रीय मंत्रिपरिषद में जगह मिली है, उनमें बिहार से मीरा कुमार और झारखंड से सुबोधकांत सहाय हैं. झारखंड में कांग्रेस ने एक और बिहार में दो लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज की है. मीरा कुमार पिछली सरकार में भी मंत्री रह चुकी हैं और बिहार से लोकसभा पहुंचने वाले कांग्रेस के दूसरे सांसद अशरफ-उल हक हैं. किशनगंज सीट से जीते हक का संसद में यह पहला मौका है.

तीसरी बार सासंद बने सहाय पिछली सरकार में राज्‍य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) थे. उन्हें इस बार केंद्रीय मंत्रीपरिषद में शामिल होकर तरक्की दी गई है. वैसे भी यह उनका हक बनता भी था क्योंकि झारखंड से उन्होंने ही कांग्रेस को एकमात्र सीट जो दिलाई है. गौरतलब है कि झारखंड में अगले साल विधानसभा चुनाव होना भी तय है.

पिछली यूपीए सरकार में बिहार से केंद्रीय मंत्रिपरिषद में चार मंत्री थे और आठ को राज्‍य मंत्री का दर्जा मिला हुआ था, जबकि झारखंड से दो राज्‍य मंत्री थे. लेकिन इस बार ग्राफ बहुत तेजी से नीचे आया है. ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि कांग्रेस ने राजद को मंत्रिपरिषद में किसी तरह की कोई जगह नहीं दी. राजद के चारों सांसद, जिनमें लालू प्रसाद भी शामिल हैं, मंत्रिमंडल में जगह हासिल नहीं कर सके. इसी तरह का कुछ रुख कांग्रेस का झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्रियों झामुमो सांसद शिबू सोरेन और निर्दलीय सांसद मधु कोड़ा-जिन्होंने बिना किसी शर्त यूपीए सरकार को समर्थन दिया-को लेकर भी रहा.

यही नहीं, कोड़ा ने तो मंत्रिपरिषद में स्थान पाने के लिए कई शीर्ष नेताओं के साथ जोड़-तोड़ की भी बहुत कोशिश की. लेकिन उनकी मेहनत रंग नहीं ला सकी. पूर्व मुख्यमंत्री तो स्वतंत्र प्रभार के राज्‍य मंत्री के दर्जे को लेकर भी तैयार थे और उन्होंने काफी प्रयास भी किए. कोडा के लोगों ने बिहार के एक निर्दलीय सासंद का समर्थन भी यूपीए सरकार की ओर करने का दावा किया. लेकिन किसी भी कदम का कोई फायदा नहीं हुआ.

राजद के उलट झामुमो कांग्रेस का चुनाव पूर्व का साथी था. संभवतः सोरेन के कई तरह के विवादों में उलझा होने के चलते कांग्रेस ने उन्हें मंत्रिमंडल में शामिल करने के लिए अधिक तवज्‍जो नहीं दी होगी. यह मजेदार तथ्य है कि पिछली यूपीए सरकार में मंत्री रहे 12 लोगों में से सिर्फ तीन, लालू प्रसाद यादव, रघुवंश प्रसाद सिंह और मीरा कुमार, ही नीतीश कुमार की लहर से बच सके हैं. हाल के लोकसभा चुनाव में बिहार से हारने वाले केंद्रीय मंत्रियों में रामविलास पासवान (लोजपा), शकील अहमद (कांग्रेस), मोहम्मद तस्लीमुद्दीन, एम.ए.ए. फातमी, अखिलेश प्रसाद सिंह, जयप्रकाश नारायण यादव, कांति सिंह और रघुनाथ झा (राजद) शामिल हैं जबकि झारखंड से पूर्व राज्‍य मंत्री रामेश्वर ओरांव को हार का मुंह देखना पड़ा.

जहां दो राज्‍यों से सिर्फ दो ही मंत्री हैं वहीं राज्‍य के लोग रेल मंत्रालय को भी इस बार काफी याद करेंगे क्योंकि इस बार रेल मंत्री बिहार से नहीं हैं. मजेदार बात यह है कि 1996 में जब रामविलास पासवान रेल मंत्री बने थे उसके बाद से ही यह मंत्रालय बिहार के नेताओं के पास रहा है, जैसे नीतीश कुमार (1998-99 और 2001-04) और फिर लालू (2004-09) रेल मंत्री रहे. इस बीच ममता बनर्जी बहुत कम अवधि (2000-01) के लिए रेल मंत्री रही थीं. अब एक बार फिर मंत्रालय उनके पास है. अगर देखा जाए तो दोनों ही राज्‍यों ने केंद्रीय मंत्रिमंडल में अपना चेहरा ही खो दिया है. यानी बिहार का केंद्रीय मंत्रिमंडल में पहला सा रूतबा नहीं रहा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay