एडवांस्ड सर्च

Advertisement

राजस्‍थान में किसका चलेगा दांव

राष्ट्रीय मुद्दों के प्रति मतदाताओं ने दिखाई बेरुखी जिससे यह आम चुनाव प्रदेश के नेतृत्व के सवाल पर सिमट गए. चुनाव कार्यक्रम । शख्सियत । विश्‍लेषण । अन्‍य वीडियो । चुनाव पर विस्‍तृत कवरेज
राजस्‍थान में किसका चलेगा दांव
रोहित परिहार 13 May 2009

राजस्थान में औसत मतदान ने जहां उम्मीदवारों के हौसलों को पस्त कर दिया, वहीं गूजर-मीणा इलाकों में उम्मीद के मुताबिक टकराव दिखाई दिया. नतीजतन पुलिस फायरिंग में एक 33 वर्षीय युवक की मौत हो गई. लेकिन कुल मिलाकर प्रदेश में 7 मई को लोकसभा चुनाव के लिए मतदान शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हो गया.

सारे देश के मिजाज की तरह प्रदेश में भी बमुश्किल आधे मतदाता ही वोट डालने के लिए घरों से बाहर निकले जबकि कुछ महीने पहले दो तिहाई मतदाताओं ने वोट डाले थे. इससे यह भी पता चलता है कि राजस्थान के लोगों की राष्ट्रीय मसलों में खास दिलचस्पी नहीं है और उन्हें इस बात की भी खास फिक्र नहीं है कि केंद्र में किसकी सरकार बन रही है. यह स्थिति तब है जब दूसरे राज्‍यों से मुक्त होने के बाद अनेक राष्ट्रीय नेताओं ने पिछले हफ्ते प्रदेश का दौरा किया.
 
यही वजह है कि प्रदेश में आमतौर पर इन चुनावों को इस नजरिए से देखा जा रहा है कि ये प्रदेश के नेतृत्व पर असर डालेंगे. उम्मीदवारों के भविष्य को भी कांग्रेसी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के बढ़ते या घटते प्रभाव से जोड़कर देखा जाएगा. वास्तव में किसी भी पार्टी को मिली कुल सीटों की संख्या गहलोत और राजे के राजनैतिक कद पर बड़ा असर डालेगी. और वे बड़े नेताओं की जीत या हार के आधार पर खुद को मजबूत करने की कोशिश करेंगे. मसलन, प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष सी.पी. जोशी की जीत का मतलब है कांग्रेस के भीतर एक और सत्ता केंद्र का निर्माण और उनकी हार का मतलब होगा गहलोत को अब किसी से चुनौती नहीं. इसी तरह यदि सचिन पायलट हारते हैं तो पार्टी की एक सीट कम होती है लेकिन ऐसा होने पर गहलोत ही एकमात्र नेता बनकर उभरेंगे. जबकि उनकी जीत का इस्तेमाल यह दिखाने के लिए किया जाएगा कि गूजरों ने भी कांग्रेस को वोट दिया.
 
शुरुआत में ऐसा लग रहा था कि चंद्रेश कुमारी जोधपुर से आसानी से जीत जाएंगी लेकिन बाद में वहां से आ रही खबरों ने ऐसे अनुमानों पर प्रश्न चिक्क लगा दिया है; कांग्रेस राज परिवारों के दो सदस्यों अलवर से जितेंद्र सिंह और कोटा से इज्‍यराज सिंह की जीत को लेकर भी आश्वस्त नहीं है. कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे राजपरिवारों के सदस्यों का प्रदर्शन दिखाएगा कि राजपूत वोट किस हद तक भाजपा से खिसक कर कांग्रेस के पाले में आ गए हैं. इसके अलावा ज्‍योति मिर्धा की जीत से जाट नेतृत्व की विरासत नाथूराम मिर्धा के परिवार में सिमट जाएगी. इस पर नजरें गड़ाए अनेक जाट नेताओं ने उन्हें हराने के लिए काम किया बिल्कुल उसी तरह जिस तरह से उन्होंने चंद्रेश कुमारी को नुक्सान पहुंचाया है.
 
जहां तक निर्दलियों की बात है तो जालौर से बूटा सिंह ही ऐसे उम्मीदवार हैं जिनका भविष्य दांव पर लगा है. इसी तरह यह देखना भी दिलचस्प होगा कि सवाई माधोपुर की सामान्य सीट से कांग्रेस के नमो नारायण मीणा कैसा प्रदर्शन करते हैं जहां कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला का भविष्य दांव पर लगा हुआ है. बैंसला जीतने को बेताब हैं क्योंकि वे गूजर मुद्दे को जिंदा रखना चाहते हैं. किरोड़ी लाल मीणा का कांग्रेस प्रेम फीका पड़ता जा रहा है, दौसा में उनकी राह भी मुश्किल है. उनकी जीत गहलोत के लिए मुश्किल पैदा करेगी तो पराजय से उनका कद घट जाएगा. जहां तक भाजपा की बात है तो यह देखना दिलचस्प होगा कि बाड़मेर में मानवेंद्र सिंह कैसा प्रदर्शन करते हैं क्योंकि उनकी शुरुआत कमजोर रही थी. जयपुर में घनश्याम तिवाड़ी अपने कांग्रेसी प्रतिद्वंद्वी महेश जोशी से जरा आगे नजर आ रहे हैं. हर किसी की नजर दुष्यंत सिंह पर क्योंकि उनकी जीत से वसुंधरा राजे का हौसला बढ़ेगा. लेकिन कुल मिलाकर ऐसा लगता है कि इन चुनावों में राजे के मुकाबले गहलोत का भविष्य कहीं अधिक दांव पर है.  

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay