एडवांस्ड सर्च

प्रमुख पार्टियों का तय होगा रुझान

राज्‍य में 17 संसदीय सीटों को लेकर चुनाव का द्वितीय चरण हर पार्टी के लिए अपने गढ़ को बरकरार रखने की परीक्षा होगा. चुनाव कार्यक्रम । शख्सियत । विश्‍लेषण । अन्‍य वीडियो । चुनाव पर विस्‍तृत कवरेज

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
सुभाष मिश्र 13 May 2009
प्रमुख पार्टियों का तय होगा रुझान

राज्‍य में 17 संसदीय सीटों को लेकर चुनाव का द्वितीय चरण हर पार्टी के लिए अपने गढ़ को बरकरार रखने की परीक्षा होगा. समाजवादी पार्टी के लिए यह चरण इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि इस इलाके से उसे आठ सीटें मिली थीं. भाजपा के लिए यह फैजाबाद पर पुनः कब्जा करने का संघर्ष है, जिसने 90 वाले दशक की शुरुआत में भगवा संगठन को संजीवनी मुहैया कराई थी. कांग्रेस के राहुल गांधी के लिए लक्ष्य यदि जीत के अंतर को बढ़ाना है तो कांग्रेस के ही टिकट पर लड़ रहे संजय सिंह के लिए संसद में वापसी करना महत्वपूर्ण है. उधर, गत लोकसभा चुनावों में यहां से महज चार सीटें जीतकर कोई ज्‍यादा आगे न बढ़ पाई बसपा के लिए यह उसकी सोशल इंजीनियरिंग की परीक्षा है.

23 अप्रैल को जिन क्षेत्रों में चुनाव होने हैं, उनमें ज्‍यादातर तराई में और कुछ पूर्वी उत्तर प्रदेश में हैं. इसलिए लगता है, उनमें मतदान का वैसा ही रुझान रहेगा जैसा पहले चरण में पूर्वांचल के मूल इलाकों की 16 सीटों पर रहा. कांग्रेस के गढ़ अमेठी में सरकार के प्रायोजित विकास को छोड़ किसी प्रमुख आर्थिक गतिविधि से वंचित इस इलाके के ज्‍यादातर हिस्से में कृषि पर निर्भरता के सिवा आजीविका का कोई दूसरा साधन नहीं है. यहां की ज्‍यादातर आबादी गरीबी रेखा से नीचे है. आबादी का खासा प्रतिशत खासकर निचले तबके के मुसलमान रोजी-रोटी के लिए बुनकरी पर निर्भर थे, पर बदलते आर्थिक परिदृश्य और राज्‍य के दूरदराज के इलाकों में चीन का माल पहुंचने से वे बेरोजगार हो गए हैं.

उत्तर प्रदेश की जैसे ख्याति है कि यहां के लोग अपने जाति बंधुओं को ही वोट डालते हैं, इसलिए यही संभावना है कि उम्मीदवारों का भाग्य किसी व्यक्ति या दल के विकास कार्यों से नहीं बल्कि इस बात से निर्धारित होगा कि उनके पक्ष में उनकी जाति ने वोट दिया है या नहीं. प्रतापगढ़ संसदीय क्षेत्र में कांग्रेस की उम्मीदवार और सामंती परिवार से जुड़ी रत्ना सिंह को यह सीट कब्जाने के लिए नाकों चने चबाने होंगे क्योंकि 2004 में यहां से सपा के अक्षय प्रताप सिंह उर्फ गोपालजी जीते थे. पहले सपा में रहे माफिया सरगना से सांसद बने अतीक अहमद भी इस क्षेत्र से अपना दल के टिकट पर खड़े हैं, जबकि पूर्व में वे फूलपुर से जीते थे. इस चरण में दूसरा अहम क्षेत्र इलाहाबाद है जो न सिर्फ स्वतंत्रता आंदोलन का केंद्र रहा, देश पर ज्‍यादातर समय तक शासन कर चुके कांग्रेस के नेहरू-गांधी परिवार का मूलाधार भी है. लेकिन कांग्रेस ने इस क्षेत्र में अपनी जड़ें फिर से जिलाने में कोई रुचि नहीं दिखाई है और यहां सपा सांसद रेवती रमण सिंह अजेय बने हुए हैं.

इलाहाबाद से सटा बांदा लोकसभा क्षेत्र राज्‍य की पुलिस के लिए हमेशा सिरदर्द रहा है. वजहः इसका ज्‍यादातर भाग और जनसंख्या वहां दनदनाते डकैत गिरोहों के हाथों में बंधक रही है. मसलन, 20 साल से अधिक अरसे तक चित्रकूट-बांदा के जंगलों में खतरनाक डाकू ददुआ का निर्विवाद शासन रहा और वह लोगों से मनमानी करता था. उसके फरमान का अक्षरशः पालन होता और संसदीय चुनाव में वह अहम भूमिका निभाता था. अब वह जिंदा नहीं है, पर उसकी जाति के कई छोटे डकैत गिरोह देहातों में आतंक मचाए हुए हैं. स्थानीय लोग जानते हैं कि अगर उन्होंने डाकुओं के समर्थक उम्मीदवारों को वोट नहीं डाला तो अभी बांदा में डेरा डाले पुलिस या एसटीएफ के चुनाव के बाद बैरकों में लौटते ही वे उन्हें बख्शेंगे नहीं. इस क्षेत्र से सटे मध्य प्रदेश के एक गांव में 13 लोगों को जिंदा जलाकर डाकुओं ने अपना एजेंडा जारी कर दिया है.

झुलसती गर्मी के शुरू होते ही चित्रकूट-बांदा के क्षेत्र में ज्‍यादातर जल स्त्रोतों के सूख जाने से एक मटका पानी की कीमत उछलकर 50 रु. पहुंच जाती है. इंसान और पशु प्यास बुझाने के लिए पानी की तलाश में मारे-मारे फिरते हैं. धूल से अटी सड़कों पर नंगे पैर एक मटका भर पानी के लिए भटकती महिलाएं यहां अक्सर दिखती हैं. गगरी न फूटे, चाहे खसम मरी जाए, एक स्थानीय लोकगीत के यह बोल उस ग्रामीण महिला की दुर्दशा बयान करते हैं, जो जाति और वर्ग संघर्ष के लिए कुख्यात इस पिछड़े इलाके में रहती है. आजादी के बाद सामाजिक असमानताओं के बढ़ने और कई कुप्रथाओं के चलते सती के ज्‍यादातर मामले यहीं हुए हैं. इलाके में कई सती मंदिर भी हैं. लेकिन यहां से बना हर सांसद न तो पिछड़ापन दूर कर पाया और न ही कुप्रथाओं पर अंकुश लगवा पाया. तो क्या अब बनने वाला सांसद इस क्षेत्र का नक्शा बदल सकेगा?

बांदा क्षेत्र का चित्रकूट वही स्थान है जहां भगवान राम ने अपनी जन्मस्थली फैजाबाद में स्थित अयोध्या से अपने 14 वर्ष के वनवास में से 12 वर्ष काटे थे. दोनों स्थानों का राजनैतिक दोहन करने के सिवा भाजपा ने इस इलाके के लिए कुछ नहीं किया है. इस मुद्दे से पहले मात्र दो सांसदों वाली पार्टी ने जब राष्ट्र से वादा किया कि रामलला हम आएंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे तो संसद की 57 सीटें पाकर वह अमर पक्षी की तरह जी उठी. पर इसी पार्टी ने मंदिर मुद्दे को अब महज अपने चुनाव घोषणा पत्र की शोभा बढ़ाने के लिए रखा है. पार्टी के नए हिंदू प्रतीक गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने फैजाबाद के निकट एक जनसभा को संबोधित किया तो एक बार भी रामलला का उल्लेख नहीं किया. यदि भाजपा को प्रदेश में अपना वनवास समाप्त करना है तो उसे फैजाबाद में भगवा झंडा बुलंद करना ही होगा. 2004 में यह सीट बसपा के मित्रसेन यादव ने जीती थी, जो अब सपा के टिकट पर खड़े हैं, जबकि भाजपा के लल्लू सिंह और बसपा के विमलेंदु मोहन मिश्र उन्हें टक्कर दे रहे हैं.
 
फैजाबाद से सटा आंबेडकर नगर क्षेत्र है, जो अगर सुर्खियों में आया है तो सिर्फ इस वजह से कि भाजपा के विनय कटियार यहां से चुनाव मैदान में हैं. राम जन्मभूमि आंदोलन के सबसे मुखर चेहरों में से एक कटियार पिछले संसदीय चुनाव में लखीमपुर खीरी से हार गए थे. उनके लिए लोकसभा में वापसी करना इसलिए अहम है कि वे अपने आलोचकों का मुंह बंद कर सकें.

चुनाव के इस चरण में अमेठी कांग्रेस के लिए रेगिस्तान में नखलिस्तान जैसा है क्योंकि पार्टी के कब्जे में इस समय यही सीट है. यहां के नतीजे को लेकर कोई शख्स भी अनुमान लगा सकता है कि कांग्रेस के नए चेहरे के रूप में राहुल गांधी रायबरेली से सटे इस क्षेत्र से दूसरी बार मैदान में हैं. विकास के नजरिए से भी अमेठी राज्‍य के इस भाग में इकलौता ऐसा स्थान है जहां, भले ही केंद्र सरकार के खर्चे पर, कुछ आर्थिक गतिविधि चल रही है. इस बार इस क्षेत्र से एक और युद्ध लड़ा जा रहा है. अमेठी में अपने भाई के लिए डेरा डाले बैठीं प्रियंका गांधी वाड्रा यहां से प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस नेतृत्व के खिलाफ भाजपा के आरोपों के जवाब में मिसाइलें दाग रही हैं. कांग्रेस को बुढ़िया बताने वाली नरेंद्र मोदी की टिप्पणी के जवाब में प्रियंका ने जब मासूमियत से कहा कि ''क्या मैं बुढ़िया लगती हूं और वे (मोदी तथा आडवाणी) जवान'' तो खूब तालियां बजीं.

इससे सटी सुल्तानपुर सीट से कांग्रेस के टिकट पर खड़े संजय सिंह मुख्यधारा की राजनीति में लौटने की लड़ाई लड़ रहे हैं. वे बसपा के वर्तमान सांसद मोहम्मद ताहिर के मुकाबले अपने चुनाव क्षेत्र की चुपचाप परवरिश करते आ रहे हैं. संजय सिंह संजय गांधी के दौर में इस कदर ताकतवर रहे हैं कि वरिष्ठ नेताओं को प्रथम नाम से बुलाया करते थे. उनकी स्थिति बेहतर होती यदि कांग्रेस ने समय पर उनकी उम्मीदवारी की घोषणा कर दी होती. उनके नाम की अंतिम क्षण में मंजूरी से लगता है कि जैसे पार्टी उन्हें लेकर दुविधा में थी. पर संजय अपने प्रयासों में कोई कसर नहीं छोड़ रहे. वे जानते हैं कि फिर पराजित हो गए तो पार्टी के अंदर-बाहर उनके आलोचकों को बल मिलेगा.

बहरहाल, चुनाव का यह दूसरा चरण बहुत-से उम्मीदवारों और प्रमुख राजनैतिक दलों के लिए रुझान तय करने वाला साबित होगा. 

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay