एडवांस्ड सर्च

सुशील को छोड़कर ओलंपिक कुश्ती दल जाएगा बेलारूस

लंदन ओलंपिक खेलों के लिये क्वालीफाई करने वाले पांच पहलवानों में से ओलंपिक कांस्य पदक विजेता सुशील कुमार को छोड़ कर 25 सदस्यीय दल लंदन खेलों की अंतिम चरण की तैयारियों के लिये बेलारूस के लिये रवाना हो रहा है.

Advertisement
आजतक ब्यूरो/भाषानई दिल्ली, 22 July 2012
सुशील को छोड़कर ओलंपिक कुश्ती दल जाएगा बेलारूस सुशील कुमार

लंदन ओलंपिक खेलों के लिये क्वालीफाई करने वाले पांच पहलवानों में से ओलंपिक कांस्य पदक विजेता सुशील कुमार को छोड़ कर 25 सदस्यीय दल लंदन खेलों की अंतिम चरण की तैयारियों के लिये बेलारूस के लिये रवाना हो रहा है.

सुशील के कोच महाबली सतपाल ने बताया कि सुशील को 27 जुलाई को लंदन ओलंपिक खेलों के उद्घाटन समारोह के दौरान भारतीय दल का ध्वजवाहक बनाया गया है. वह 26 जुलाई को मुख्य कोच विनोद कुमार के साथ लंदन के लिये रवाना होंगे.

सतपाल ने कहा सुशील कुमार ओलंपिक उद्घाटन समारोह में भाग लेने के बाद कोच विनोद कुमार के साथ 28 जुलाई को अपनी टीम के अन्य सदस्यों के साथ अभ्यास के लिये बेलारूस के मिंस्क लिये रवाना हो जाएगे.

यह पूछने पर कि सुशील कुमार के टीम के साथ बेलारूस नहीं जाकर उद्घाटन समारोह में शामिल होने के बाद बेलारूस जाने से उसके ओलंपिक अभ्यास पर कोई असर नहीं पड़ेगा, महाबली ने कहा, ‘कोई फर्क नहीं पड़ेगा क्यों यहीं पर अभ्यास की व्यवस्था कर दी गयी है लेकिन उसे बेलारूस भी जाना जरूरी है क्यों कि बेलारूस में अन्य विदेशी पहलवानों के साथ अभ्यास करने के अलावा वहां के वातावरण में अभ्यस्त होने का भी मौका मिला क्योंकि वहां का वातावरण लंदन से मिलता जुलता है, इसलिए ओलंपिक से पहले वहां अभ्यास का कार्यक्रम रखा गया है.'

सुशील के अलावा क्वालीफाई करने अन्य चारों पहलवान अमित कुमार (55किलो), योगेश्वर दत (60किलो), नरसिंह यादव (66किलो) और महिला पहलवान गीता फोगट (55किलो) सोमवार से उनके ही वजन वर्ग के साथ गये दो-दो पहलवानों के साथ विदेशी कोच एम ब्लादीमिर सहित अन्य कोच की देखरेख में अभ्यास शुरू कर देंगे. प्रमुख कोच विनोद कुमार का दावा है कि भारत कम से कम दो पदक जरूर जीतेगा.

उन्होंने कहा कि सुशील कुमार और योगश्वर दत्त का यह लगातार तीसरा ओलंपिक है और खासकर पिछले बीजिंग ओलंपिक खेलों कांस्य पदक मिलने के बाद से चार सालों में दोनों पहलवानों ने काफी मेहनत की है और कोई कारण नहीं है कि हम पदक नहीं जीत सके, पहली बार ओलंपिक के लिये अमित और नरसिंह के बारे में विनोद कुमार ने कहा कि ऐसा नहीं है कि ये दोनों अच्छे नहीं है बल्कि सुशील और योगेश्वर ज्यादा अनुभवी है इसलिये उनसे ज्यादा उम्मीदें हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay