एडवांस्ड सर्च

गुपचुप बढ़े माल भाड़े से रेलवे की 'पौ-बारह'

दिनेश त्रिवेदी के रेल बजट में किराया बढ़ाने का प्रस्ताव भले ही विवाद का कारण बन गया, लेकिन 6 मार्च को उनके द्वारा माल भाड़े में की गई 20 फीसदी वृद्धि पर लोगों का अधिक ध्यान नहीं गया.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
आईएएनएसनई दिल्ली, 20 March 2012
गुपचुप बढ़े माल भाड़े से रेलवे की 'पौ-बारह'

दिनेश त्रिवेदी के रेल बजट में किराया बढ़ाने का प्रस्ताव भले ही विवाद का कारण बन गया, लेकिन 6 मार्च को उनके द्वारा माल भाड़े में की गई 20 फीसदी वृद्धि पर लोगों का अधिक ध्यान नहीं गया.

रेल मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि माल भाड़े में की गई वृद्धि से रेलवे को 16 हजार से 17 हजार करोड़ रुपये की आय होगी, जिससे रेलवे को काफी वित्तीय सुविधा मिल जाएगी. रेलवे को माल भाड़े से साल में अभी 80 हजार करोड़ रुपये की कमाई होती है, जबकी यात्री किराए से रेलवे को साल में 28 हजार करोड़ रुपये की कमाई होती है.

अधिकारी ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर कहा, 'यात्री किराया नहीं बढ़ाए जाने के बाद भी माल भाड़े में वृद्धि से रेलवे सुविधाजनक स्थिति में आ जाएगा.'

रेल मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि छह मार्च को माल भाड़े में वृद्धि की घोषणा पर लोगों का अधिक ध्यान नहीं गया, क्योंकि उस दिन पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव की मतगणना हो रही थी.

जानकार सूत्रों ने कहा कि माल भाड़े में 20 फीसदी वृद्धि, माल ढुलाई के ऊंचे लक्ष्य और 14 मार्च को रेल बजट 2012-13 में किराए में की गई छोटी-मोटी वृद्धि से अगले कारोबारी साल में रेलवे को 25 हजार करोड़ रुपये की अतिरिक्त कमाई हो सकती है.

सूत्रों ने कहा कि त्रिवेदी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी को प्रसन्न करने के लिए यदि किराए में प्रस्तावित वृद्धि को कुछ हद तक वापस भी ले लिया जाए, तो भी यात्री किराए से रेलवे को चार से पांच हजार करोड़ रुपये की अतिरिक्त कमाई हो जाएगी.

गौरतलब है कि रेल बजट पर बनर्जी के दबाव के चलते त्रिवेदी को रविवार को पद छोड़ना पड़ा.

उल्लेखनीय यह भी है कि रेलवे को दो विशेषज्ञ समितियों की सुरक्षा और आधुनिकीकरण से सम्बंधित सिफारिशों को अमल में लाने के लिए अगले पांच सालों में नौ लाख करोड़ रुपये जुटाने की जरूरत है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay