एडवांस्ड सर्च

Advertisement

समर्थन वापसी पर भी मुझे नहीं हटाते PM: त्रिवेदी

रेल किराये में वृद्धि के प्रस्ताव के चलते रेल मंत्री के पद से इस्तीफा देने पर मजबूर हुए दिनेश त्रिवेदी ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह तो तृणमूल कांग्रेस का समर्थन खोने की स्थिति में भी उन्हें पद पर कायम रखते लेकिन उन्होंने ही सरकार को संकट से बचाने के लिए त्यागपत्र दे दिया.
समर्थन वापसी पर भी मुझे नहीं हटाते PM: त्रिवेदी दिनेश त्रिवेदी
आजतक ब्‍यूरो/भाषानई दिल्ली, 23 March 2012

रेल किराये में वृद्धि के प्रस्ताव के चलते रेल मंत्री के पद से इस्तीफा देने पर मजबूर हुए दिनेश त्रिवेदी ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह तो तृणमूल कांग्रेस का समर्थन खोने की स्थिति में भी उन्हें पद पर कायम रखते लेकिन उन्होंने ही सरकार को संकट से बचाने के लिए त्यागपत्र दे दिया.

तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी के कहने पर रेल मंत्री के पद से इस्तीफा देने वाले पार्टी सांसद त्रिवेदी कांग्रेस में शामिल होने की अटकलों के संबंध में पूछे गये सवाल पर जवाब देने से बचते रहे. एक टीवी कार्यक्रम में त्रिवेदी ने दावा किया कि यदि वह इस्तीफा देना नहीं चाहते तो प्रधानमंत्री कभी उनसे इसके लिए नहीं कहते.

पूर्व रेल मंत्री से जब पूछा गया कि क्या प्रधानमंत्री तृणमूल कांग्रेस का समर्थन खोने की कीमत पर भी उन्हें अपने मंत्रिमंडल में रखते तो उन्होंने ‘हां’ में जवाब दिया. जब त्रिवेदी से पूछा गया कि क्या आपके इन बयानों से लोग हैरान नहीं होंगे तो उन्होंने कहा, ‘यह सचाई है.’

संसद में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा त्रिवेदी के इस्तीफे पर ‘खेद जताने’ संबंधी बयान का उल्लेख करते हुए तृणमूल नेता ने कहा कि उन्हें बताया गया था कि प्रधानमंत्री उनसे इस्तीफे के लिए कभी नहीं कहते. क्या यह संदेश किसी विश्वसनीय व्यक्ति की ओर से आया, इस सवाल पर उन्होंने कहा, ‘ज्यादा ब्योरे में जाने की जरूरत नहीं है. मैं ये सारी बातें नहीं करूंगा. यदि मैंने कुछ कहा है तो उस पर कायम हूं.’

त्रिवेदी ने इस धारणा को भी खारिज कर दिया कि उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय और कांग्रेस पार्टी से किसी तरह के संकेत मिलने के बाद इस्तीफा दिया. वह इस बात पर कायम रहे कि सरकार को अस्थिरता से बचाने के लिए उन्होंने पद छोड़ा. उन्होंने कहा, ‘किसी तरफ से कोई संकेत नहीं आया. यदि मैं उस शाम (गत रविवार को) इस्तीफा नहीं देता तो मैं सरकार को ही अस्थिरता में ला सकता था जो मेरा काम नहीं है.’

त्रिवेदी ने कहा कि उन्होंने इस्तीफा इसलिए दिया क्योंकि उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस और उनकी नेता ममता बनर्जी ने उनसे ऐसा करने के लिए कहा. कांग्रेस में शामिल होने की संभावना के सवाल पर पूर्व रेल मंत्री जवाब देने से बचते रहे, बहरहाल उन्होंने कहा, ‘राजनीति मेरे लिए कॅरियर नहीं है.’

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay