एडवांस्ड सर्च

Advertisement

भारतीय एथलीट डोप टेस्ट में पॉजीटिव

राष्ट्रमंडल खेल महासंघ (सीजीएफ) के अध्यक्ष माइक फेनेल ने बुधवार को कहा कि एक भारतीय एथलीट को डोप टेस्ट के दौरान प्रतिबंधित शक्तिवर्धक दवा नांड्रोलोन के सेवन का दोषी पाया गया है लेकिन उन्होंने ने दोषी खिलाड़ी का नाम घोषित नहीं किया है.
भारतीय एथलीट डोप टेस्ट में पॉजीटिव
भाषानई दिल्ली, 13 October 2010

राष्ट्रमंडल खेल महासंघ (सीजीएफ) के अध्यक्ष माइक फेनेल ने बुधवार को कहा कि एक भारतीय एथलीट को डोप टेस्ट के दौरान प्रतिबंधित शक्तिवर्धक दवा नांड्रोलोन के सेवन का दोषी पाया गया है लेकिन उन्होंने ने दोषी खिलाड़ी का नाम घोषित नहीं किया है.

फेनेल ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘हमने डोप टेस्ट में एक और खिलाड़ी को पाजीटिव पाया है. (भारतीय) खेल दल की प्रमुख (भुवनेश्वर कलिता) को सुबह नौ बजे नोटिस भेज दिया गया है. लेकिन एथलीट को इसकी सूचना नहीं दी गई है और हम आशा करते हैं कि खेल दल प्रमुख दोपहर तक अपनी रिपोर्ट देंगी.’ उन्होंने कहा, ‘हम अभी दोषी खिलाड़ी का नाम नहीं अभी घोषित नहीं कर रहे हैं.

डोपिंग विरोधी नियमों के तहत हम तभी उसके नाम की घोषणा करते हैं जब उक्त एथलीट को नोटिस मिल जाता है. हमारे पास इस बात की पुष्ट सूचना नहीं है कि खिलाड़ी को इसका नोटिस दे दिया गया है.’ फेनेल ने कहा, ‘मैं इस समय खिलाड़ी का अभी नाम नहीं दे सकता हूं लेकिन इतना कह सकता हूं कि दोषी खिलाड़ी भारत का है और वह एथलेटिक्स खेल का खिलाड़ी है. उसे प्रतिबंधित शक्तिवर्धक दवा नांड्रेलोन के सेवन का दोषी पाया गया है.’

फेनेल ने कहा, ‘हम (सीजीएफ) मंगलवार देर रात मिले थे और सुबह नौ बजे खेल दल प्रमुख (कलीता) को नोटिस दिया. आयोजन समिति के महासचिव ललित भनोट ने भारतीय एथलीट के डोप टेस्ट में पाजीटिव पाये जाने को ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ करार दिया और कहा कि यह शर्मनाक घटना ऐसे समय पर हुई जब इसे रोकने के लिये सर्वोत्तम उपाय किये गये थे.

उन्होंने कहा, ‘यह एक दुभाग्यपूर्ण घटना है. हमने अपने स्तर पर सबसे अच्छा प्रयास किया. न केवल संघ बल्कि राष्ट्रीय डोपिंग निरोधी एजेंसी (नाडा) और सरकारी प्राधिकरण इस मसले को लेकर काफी गंभीर थे. हमने स्पर्धा के पहले और इसके दौरान टेस्ट किये थे.’ भनोट ने कहा, ‘यह बहुत कठिन स्थिति है. यह दुर्भाग्यपूर्ण है. हम मेजबान हैं, हम सावधानियां बरत रहे हैं. लेकिन यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना हुई.’

गौरतलब है कि 100 मीटर दौड़ में स्वर्ण पदक जीतने वाली नाइजीरियाई महिला एथलीट ओसयेमी ओलुडमोला और वहीं के सैमुअल ओकोन के डोप टेस्ट में पकड़े जाने के बाद डोपिंग का यह तीसरा मामला प्रकाश में आया है. यह पूछे जाने पर कि क्या भारतीय एथलीट पदक विजेता है तो इस फेनेल ने इसका जवाब नहीं दिया. राष्ट्रमंडल खेलों में डोपिंग के तीन मामले पकड़े जाने पर फेनेल ने कहा कि 1300 लोगों के डोप टेस्ट में तीन लोगों के पकड़े जाने का रिकार्ड खराब नहीं है.

फेनेल ने कहा, ‘डोपिंग के दो मामले ज्यादा गंभीर नहीं थे. लेकिन यह नया मामला ज्यादा सुना नहीं गया है और मैं इस पर प्रतिक्रिया नहीं दे सकता हूं.’ उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों और प्रशिक्षकों को विशेष रूप से शिक्षित करने की जरूरत है कि उन्हें क्या खाना और क्या नहीं खाना चाहिये. फेनेल ने डोप टेस्ट में पकड़ी गई नाइजीरियाई खिलाड़ी के बारे में कहा, ‘उन्होंने इस पर गहरा दुख जताया है. उन्होंने कहा कि प्रतिबंधित के पदार्थ के बारे में उन्हें जानकारी नहीं थी.’

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay