एडवांस्ड सर्च

सचिन पायलट बोले- एक सुई नहीं बनती थी देश में, जनता यहां तक लेकर आई

महेश शर्मा ने कहा कि बीजेपी एक उपचुनाव हारती है, तो एक राज्य जीत लेती है. कांग्रेस अपने मुगालते में है, लेकिन सरकार काम कर रही है. पेट्रोल और डीजल के दाम पर उन्होंने कहा कि हम जीएसटी लेकर आए हैं और मंत्री ने कहा है कि इस पर विचार किया जा रहा है.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: नंदलाल शर्मा]नई दिल्ली , 26 May 2018
सचिन पायलट बोले- एक सुई नहीं बनती थी देश में, जनता यहां तक लेकर आई पंचायत आजतक

पंचायत आजतक के 12वें सेशन में केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा और कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने शिरकत की. सत्र का संचालन करते हुए रोहित सरदाना ने महेश शर्मा के सामने देश के आगे बढ़ने का सवाल रखा? शर्मा ने कहा कि देश भी आगे बढ़ रहा है और बीजेपी भी आगे बढ़ रही है. आजादी की रोशनी देश के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति तक पहुंच रही है.

इस पर सचिन पायलट ने कहा कि सिर्फ सरकार बना लेना ही उपलब्धि नहीं है. पेट्रोल के दाम 100 रुपये तक पहुंच गया है. लेकिन सरकार को इसकी कोई चिंता नहीं है.  

महेश शर्मा ने कहा कि बीजेपी एक उपचुनाव हारती है, तो एक राज्य जीत लेती है. कांग्रेस अपने मुगालते में है, लेकिन सरकार काम कर रही है. पेट्रोल और डीजल के दाम पर उन्होंने कहा कि हम जीएसटी लेकर आए हैं और मंत्री ने कहा है कि इस पर विचार किया जा रहा है.

सचिन पायलट ने कहा कि तेल के दाम अंतरराष्ट्रीय बाजार में तो गिर रहे हैं, लेकिन भारत में लोगों की जेब पर डाका डाला जा रहा है. महंगाई बढ़ रही है. किसानों पर बोझ बढ़ रहा है. बीजेपी के पास जश्न मनाने का कोई कारण नहीं है. सीटों पर ज्यादा गुरूर नहीं होना चाहिए. ये लोकतंत्र है, हम अपने विपक्षियों का भी सम्मान करते हैं. देश का मतदाता समझता है कि सबका साथ सबका विकास का नारा खोखला है.

महेश शर्मा ने कहा कि आज देश के लोगों में जागरूकता आ गई है. लोग सफाई के प्रति जागरुक हुए हैं. नौकरी के सवाल पर उन्होंने कहा कि 31 करोड़ बैंक खाते खुले हैं, हमारे देश के प्रधानमंत्री का सपना है कि हमारे देश का युवा नौकरी देने वाला बने, नौकरी मांगने वाला नहीं. उन्होंने कहा कि कहीं हाथ फैलाने से अच्छा है कि पकौड़ा बनाकर स्वाभिमानी जीवन जिया जाए. भ्रष्टाचार से अच्छा है कि पकौड़ा बेचे.

सचिन पायलट ने कहा कि निवेश के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि भयमुक्त और सौहार्दपूर्ण माहौल बने. हमारी योजनाओं को नरेंद्र मोदी सरकार ने अपनाया. चाहे वो जीएसटी हो या आधार. आज देश की संवैधानिक संस्थाओं की जड़ों को कमजोर किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अपने सिद्धांतों से कभी समझौता नहीं किया. अगर हम जनता के बीच जाएंगे, तो बताएंगे कि कांग्रेस को वोट देने से क्या फायदा होगा. उन्होंने कहा कि अजमेर से आता हूं और मुझे पता है कि वहां स्मार्ट सिटी के नाम पर क्या हो रहा है. आज आरक्षण खत्म करने की बात हो रही है. पहली बार एससी-एसटी के नाम पर भारत बंद हुआ.

बीजेपी में आते ही नेताओं की छवि ठीक हो जाती है? के सवाल पर महेश शर्मा ने कहा कि सचिन पायलट की पृष्ठभूमि अच्छी है, लेकिन राजकुमारों की संगत में आ गए. पायलट ने कहा कि नेता का व्यवहार उसकी भाषा और कार्यशैली से पता चलता है. कांग्रेस ने इस देश के लिए एक-एक ईंट जुटाई है. सुई नहीं बनता था इस देश में. देश की जनता ने बनाया है.

वंशवाद के सवाल पर सचिन पायलट ने कहा कि ये पब्लिक सब जानती है. जनता के बीच काम करने वालों को मौका मिलता है. वंशवाद से काम नहीं चलता है.

लालकिला किराए पर देने के सवाल पर महेश शर्मा ने कहा कि देश में 116 मोन्युमेंट ऐसे हैं, जहां सबसे ज्यादा लोग जाते हैं. जनभागीदारी बनाना हमारी सरकार का सपना है. हमने फैसला किया कि स्मारक के रखरखाव का काम आर्कियोलॉजी विभाग करेगा, लेकिन सुविधाओं और व्यवस्था से जनभागीदारी को जोड़ा है.

राजस्थान चुनाव के सवाल पर सचिन पायलट ने कहा कि राज्य में बीजेपी और कांग्रेस के बीच सीधा मुकाबला है. आने वाले तीनों चुनावों में कांग्रेस अपनी सरकार बनाएगी. राजस्थान में हम बड़े बहुमत के साथ सरकार बनाएंगे.

मुख्यमंत्री के सवाल पर उन्होंने कहा कि मेरा काम सिर्फ पार्टी को जिताना है. इसके बाद ही फैसला होगा. और पार्टी नेतृत्व निर्णय लेगा कि कौन क्या बनेगा. उन्होंने कहा कि आने वाले लोकसभा चुनाव में यूपीए की सरकार बनेगी.

विपक्ष की एकजुटता के सवाल पर महेश शर्मा ने कहा कि एक शेर से 17 गीदड़ लड़ेंगे. 17 चेहरे थे उस मंच पर, ये असंभव है. सचिन पायलट ने कहा कि अहंकार मत करिए सरकार किसी की भी नहीं टिकी.

महेश शर्मा ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए. देश का हर व्यक्ति देखना चाहता है. कॉमन सिविल कोड देश में होना चाहिए. उन्होंने कहा कि हमने ये काम करने की शुरुआत कर दी है, और हम काम करेंगे.

सचिन पायलट ने कहा कि ये सब जज्बातों से खेलकर वोट लेने की भाषणबाजी है. अच्छा लगता है बोलने में, ये सरकार घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मामलों में फेल रही है. देश का नौजवान आगे बढ़ना चाहता है.

राज्यों में कांग्रेस की हार पर सचिन पायलट ने कहा कि कर्नाटक में हमारी सरकार है, हमारे पास सबसे ज्यादा वोट प्रतिशत है. हम संवैधानिक संस्थाओं का सम्मान करते हैं. सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के खिलाफ महाभियोग लाने के मामले पर उन्होंने कहा कि व्यक्ति और संस्था में फर्क होता है, ये कुछ सांसदों का विशेषाधिकार था.

मेघालय में दो सीटों पर सरकार बनाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि हमें मौका मिला, तो हमने सरकार बनाई. कांग्रेस की हालत आज ये हो गई है कि वो 37 सीटों वाले दल को झुककर समर्थन दे रही है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay