एडवांस्ड सर्च

chandrayaan 2: रातभर जागा देश, लैंडिंग के वक्त थमी सांसें

रात के करीब 2 बजे, इसरो सेंटर बंगलुरु में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बैठकर इस ऐतिहासिक पल का इंतजार कर रहे थे. वैज्ञानिकों की निगाहें कंप्यूटर की स्क्रीनों पर चांद से संकेतों का इंतजार कर रही थीं. जानिए फिर क्या हुआ.

Advertisement
aajtak.in
मानसी मिश्रा नई दिल्ली, 07 September 2019
chandrayaan 2: रातभर जागा देश, लैंडिंग के वक्त थमी सांसें इसरो में बैठकर लैंडिंग देख रहे बच्चे

रात के करीब 2 बजे, इसरो सेंटर बेंगलुरु में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बैठकर इस ऐतिहासिक पल का इंतजार कर रहे थे. वैज्ञानिकों की निगाहें कंप्यूटर की स्क्रीनों पर चांद से संकेतों का इंतजार कर रही थीं. लेकिन ये क्या, लैंडर विक्रम से संपर्क अचानक टूट गया. ये संपर्क एक बार टूटा तो इंतजार के बाद भी वापस नहीं हो पाया. वैज्ञानिकों के चेहरे उदास हो गए.

ये वो पल था जब चंद्रयान मिशन के रॉकेट लांचर का सबसे आगे का हिस्सा विक्रम लैंडर सॉफ्ट लैंडिंग करने जा रहा था. तभी अचानक हर तरफ सन्नाटा पसर गया. इसरो के मीडिया केंद्र में भी असमंजस की स्थिति बन गई.

वैज्ञानिकों ने सवा दो बजे तक कोई आधिकारिक बयान देकर ये साफ नहीं किया था कि विक्रम की सॉफ्ट लैंडिंग हो गई है या नहीं. हर कोई स्पेस सर्च सेंटर से अच्छी खबर का इंतजार कर रहा था. इन अंतिम पलों में हर किसी की धड़कनें थमीं थीं.

फिर इसरो ने रात 2 बजकर 18 मिनट पर कहा कि आंकड़ों का अध्ययन हो रहा है. बता दें कि विक्रम लैंडर चांद से 2.1 किमी की दूरी पर था तभी विक्रम से संपर्क टूट गया. आखिर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्थिति स्पष्ट करते हुए वैज्ञानिकों से हौसला बरकरार रखने की बात कही. इसके बाद बच्चों से मिले.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay