एडवांस्ड सर्च

अयोध्या मामले पर फैसले से पहले CJI को Z प्लस सुरक्षा, बाकी 4 जजों की भी बढ़ी सिक्योरिटी

सूत्रों के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट की इनर मोस्ट जोन की सुरक्षा भी दिल्ली पुलिस की सिक्युरिटी यूनिट देखती है. इसलिए सुप्रीम कोर्ट के अंदर जो सुरक्षा होगी, वह सिक्योरिटी यूनिट देखेगी. 

Advertisement
aajtak.in
अरविंद ओझा / अनुज मिश्रा नई दिल्ली, 09 November 2019
अयोध्या मामले पर फैसले से पहले CJI को Z प्लस सुरक्षा, बाकी 4 जजों की भी बढ़ी सिक्योरिटी जस्टिस बोबडे और चीफ जस्टिस रंजन गोगोई व अन्य (फाइल फोटो- ANI)

  • सुप्रीम कोर्ट परिसर समेत पूरे दिल्ली में सुरक्षा बढ़ाई गई
  • शनिवार सुबह 10:30 बजे फैसला सुनाएगा सुप्रीम कोर्ट

राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में सुरक्षा व्यवस्था चाकचौबंद कर दी गई है. इस फैसले से पहले सुप्रीम कोर्ट के जजों की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है. अयोध्या मामले का फैसला सुनाने वाली बेंच में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई समेत पांच जज शामिल हैं. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई को जेड प्लस सुरक्षा दी गई है. वहीं बाकी जजों की और उनके आवास समेत सुप्रीम कोर्ट परिसर और आसपास की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है.

सूत्रों के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट की इनर मोस्ट जोन की सुरक्षा भी दिल्ली पुलिस की सिक्युरिटी यूनिट के हवाले रहती है. इसलिए सुप्रीम कोर्ट के अंदर जो सुरक्षा होगी, वह सिक्योरिटी यूनिट देखेगी. पूरे इलाके को सुरक्षा घेरे में ले लिया गया है. सुप्रीम कोर्ट की तरफ जाने वाली सभी सड़कों की निगरानी बढ़ा दी गई है. तिलक मार्ग, भगवानदास रोड, मथुरा रोड, महादेव रोड और इंडिया गेट सर्कल की सुरक्षा न्यू दिल्ली डिस्ट्रिक्ट पुलिस देखेगी.

सुप्रीम कोर्ट समेत कई इलाकों में पेट्रोलिंग शुरू कर दी गई है. संदिग्ध लोगों पर नजर रखी जा रही है. अयोध्या मामले पर फैसले से पहले दिल्ली पुलिस ने एक्स्ट्रा फोर्स भी बुलाई है. उन सभी को नई दिल्ली इलाके में भी तैनात किया जाएगा. सभी की तैनाती शुरू हो चुकी है. डीसीपी नई दिल्ली और जॉइंट सीपी नई दिल्ली रेंज सुरक्षा व्यवस्था चाकचौबंद करने में लगे हुए हैं.

पीएम मोदी ने फैसले को लेकर क्या कहा?

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा कि अयोध्या पर कल सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आ रहा है. पिछले कुछ महीनों से सुप्रीम कोर्ट में निरंतर इस विषय पर सुनवाई हो रही थी, पूरा देश उत्सुकता से देख रहा था. इस दौरान समाज के सभी वर्गों की तरफ से सद्भावना का वातावरण बनाए रखने के लिए किए गए प्रयास बहुत सराहनीय हैं.

पीएम ने कहा कि अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आएगा, वो किसी की हार-जीत नहीं होगा. देशवासियों से मेरी अपील है कि हम सबकी यह प्राथमिकता रहे कि ये फैसला भारत की शांति, एकता और सद्भावना की महान परंपरा को और बल दे. पीएम मोदी ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि देश की न्यायपालिका के मान-सम्मान को सर्वोपरि रखते हुए समाज के सभी पक्षों, सामाजिक-सांस्कृतिक संगठनों, सभी पक्षकारों ने बीते दिनों सौहार्दपूर्ण और सकारात्मक वातावरण बनाने के लिए जो प्रयास किए, वे स्वागत योग्य हैं. कोर्ट के निर्णय के बाद भी हम सबको मिलकर सौहार्द बनाए रखना है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay