एडवांस्ड सर्च

फेसबुक, ट्विटर और व्हॉट्सऐप पर अफवाह फैलाने वालों की खैर नहीं

अयोध्या जमीन विवाद पर थोड़ी देर में सुप्रीम कोर्ट फैसला सुनाएगा. फैसले को लेकर देश में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. खासतौर पर सोशल मीडिया पर नजर रखी जा रही है. सभी लोगों को विवादित पोस्ट नहीं करने का फरमान जारी किया गया है. 

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 09 November 2019
फेसबुक, ट्विटर और व्हॉट्सऐप पर अफवाह फैलाने वालों की खैर नहीं देश में सुरक्षा के कड़े इंतजाम

  • विवादित मैसेज के लिए व्हॉट्सऐप एडमिन होंगे जिम्मेदार
  • कई शहरों में इंटरनेट बंद, अफवाह फैलाने वालों पर होगी कार्रवाई

अयोध्या जमीन विवाद पर थोड़ी देर में सुप्रीम कोर्ट फैसला सुनाएगा. फैसले को लेकर देश में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. खासतौर पर सोशल मीडिया पर नजर रखी जा रही है. सभी लोगों को विवादित पोस्ट नहीं करने का फरमान जारी किया गया है. इसके साथ ही व्हॉट्सऐप के ग्रुपों में मैसेज को लेकर गाइडलाइन जारी की गई है. ग्रुप में कोई भी विवादित मैसेज डालता है तो इसके लिए एडमिन को जिम्मेदार माना जाएगा.

उत्तर प्रदेश में बकायदा सोशल मीडिया पर नजर रखने के लिए एक टीम का गठन किया गया है. पुलिस ने अब तक 72 लोगों को गिरफ्तार किया और 670 लोगों के अकाउंट को ब्लॉक करने के लिए लिखा गया है. इसके साथ ही अलीगढ़ में इंटरनेट को बंद कर दिया गया है. उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि विशेष सतर्कता बरती जा रही है और अगर जरूरत पड़ी तो अफवाहों को फैलाने से रोकने के लिए इंटरनेट बंद किया जा सकता है.

रडार पर विवादित पोस्ट करने वाले लोग

इसके अलावा यूपी के जिलों में सोशल मीडिया पर नजर रखने के लिए टीम बना दी गई है. सोशल मीडिया मॉनीटर टीम बनाई गई है. इसकी अगुवाई साइबर क्राइम टीम के प्रभारी कर रहे हैं. सोशल मीडिया में किए जा रहे पोस्ट व व्हॉट्सऐप के जरिये अयोध्या मामले पर नकारात्मक संदेश भेजने वाले इस टीम के रडार पर हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay