लगातार 14 वर्षों से सर्वश्रेष्‍ठ
3 मार्च, 2015 | 14:19
होम  >  ख़बरें अब तक
ख़बरें अब तक
कैदियों को भी है सेक्स का अधिकार
7 January, 2015
एक ऐतिहासिक फैसला देते हुए पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने कैदियों को अपने पार्टनर के साथ सेक्स करने और बच्चे पैदा करने की अनुमति दी है. मंगलवार को दिए अपने फैसले में कोर्ट ने कहा कि किसी भी कैदी का 'प्रजनन करने का अधिकार' जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता के अधिकार के दायरे में आता है, जिसकी गारंटी संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत दी गई है. अंग्रेजी अखबार द टाइम्स ऑफ इंडिया ने इस आशय की खबर प्रकाशित की है.

जसवीर सिंह और सोनिया की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट के जस्टिस सूर्यकांत ने यह आदेश दिया. जसवीर और सोनिया पटियाला के सेंट्रल जेल में कैदी हैं. ट्रायल कोर्ट ने दोनों को 16 साल के एक बच्चे के अपहरण और हत्या के मामले में मौत की सजा सुनाई है.

गौरतलब है कि कई देशों में कैदियों को प्रजनन के लिए जेल से बाहर जाने या कृत्रिम गर्भाधान का अधिकार मिला हुआ है. भारत में इसकी इजाजत नहीं है. हाईकोर्ट के जस्टिस सूर्यकांत ने रूलिंग दी है कि कैदियों को वैवाहिक संबंधों के दायरे में प्रजनन करने का अधिकार है. उन्होंने कहा है कि कैदियों को कृत्रिम गर्भाधान का भी अधिकार है. हालांकि संबंधित राज्य सरकार ही तय करेगी कि किस कैटिगरी के कैदियों को ये अधिकार दिए जाएं.

Top Downloads