लगातार 14 वर्षों से सर्वश्रेष्‍ठ
28 फरवरी, 2015 | 12:18
होम  >  ख़बरें अब तक
ख़बरें अब तक
जन-धन योजना की शुरुआत, जानें खास बातें
28 August, 2014
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को दिल्ली में प्रधानमंत्री जन-धन योजना का शुभारंभ हो गया. इस अवसर पर सार्वजनिक बैंकों की विभिन्न शाखाएं देशभर के ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में 60 हजार से भी ज्यादा शिविरों का आयोजन करेंगी, जहां परिवारों का बैंक खाता खोला जाएगा.

इस योजना के आरंभ के मौके पर कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्रियों और राज्य के मुख्यमंत्रियों को भी शिरकत करने के लिए कहा गया है. वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा, 'उस दिन लगभग एक करोड़ बैंक खाते खुलने का अनुमान है. ये शिविर सफल साबित होंगे, क्योंकि नए खाताधारकों से आवश्यक सूचनाएं हासिल करने के लिए शुरुआती शिविरों का आयोजन पहले ही किया जा चुका है.'

'Rupay' डेबिट कार्ड व दुर्घटना बीमा कवर
पहले कदम के तहत हर खाताधारक को एक 'Rupay' डेबिट कार्ड और एक लाख रुपये का दुर्घटना बीमा कवर दिया जाएगा. आगे चलकर उन्हें बीमा और पेंशन उत्पादों के दायरे में लाया जाएगा.

हर परिवार का बैंक खाता खोलना लक्ष्य
प्रधानमंत्री ने सभी बैंक अधिकारियों को तकरीबन 7.25 लाख ई-मेल भेजे थे. यह योजना एक राष्ट्रीय मिशन है, जिसका उद्देश्य देश में सभी परिवारों को बैंकिंग सुविधाएं मुहैया कराना और हर परिवार का एक बैंक खाता खोलना है. इस योजना के तहत कम-से-कम 7.5 करोड़ परिवारों को कवर किए जाने का अनुमान है.

वित्त मंत्रालय ने कहा, 'एक बैंक खाता खुल जाने के बाद हर परिवार को बैंकिंग और कर्ज की सुविधाएं सुलभ हो जाएंगी. इससे उन्हें साहूकारों के चंगुल से निकलने, आपातकालीन जरूरतों के चलते पैदा होने वाले वित्तीय संकटों से खुद को दूर रखने और तरह-तरह के वित्तीय उत्पादों से लाभान्वित होने का मौका मिलेगा.'

प्रधानमंत्री जन-धन योजना की मुख्य बातें
1. यह मिशन दो चरणों में लागू होगा.
2. पहला चरण 15 अगस्त, 2014 से लेकर 14 अगस्त, 2015 तक होगा.
3. दूसरा चरण 15 अगस्त, 2015 से 14 अगस्त, 2018 तक होगा.
4. पूरे देश में सभी परिवारों को उचित दूरी के अंदर किसी बैंक की शाखा या निर्धारित प्वाइंट 'बिजनेस कॉरस्‍पोंडेंट' के माध्यम से बैंकिंग सुविधाओं की वैश्विक पहुंच उपलब्ध कराना.
5. रुपे डेबिट कार्ड के साथ कम से कम एक मूल बैंकिंग खाता उपलब्ध कराना.
6. सभी परिवारों को एक लाख रुपये का दुर्घटना बीमा कवर.
7. लोगों को माइक्रो बीमा उपलब्ध कराना.
8. बिजनेस कॉरस्पोंडेंट (बीसी) के माध्यम से स्वावलंबन जैसी गैर संगठित क्षेत्र पेंशन योजनाएं शुरू करना.
9. इसके तहत शहरी और ग्रामीण, दोनों क्षेत्रों को कवर किया जाएगा.

क्या होंगी इस खाते की खासियतें
- पैसों की सुरक्षा के साथ उस पर ब्याज भी
- डेबिट कार्ड की सुविधा
- एक लाख रुपए का दुर्घटना बीमा
- मिनिमम बैलेंस रखने की कोई बाध्यता नहीं
- देश में कहीं भी पैसे भेजने की सुविधा
- डायरेक्ट बेनेफिट ट्रांसफर (डीबीटी) के जरिए पैसे पाने की सुविधा
- खाता खुलने के छह महीने के बाद ओवरड्राफ्ट की सुविधा

कौन से डॉक्‍यूमेंट चाहिए:
अगर खाता खोलने के इच्छुक व्यक्ति के पास आधार नंबर या आधार कार्ड है, तो फिर उसे किसी भी अन्य प्रमाण की जरूरत नहीं है. अगर आपका पता बदल गया है, तो अपने मौजूदा पते को खुद से प्रमाणित करके दे सकते हैं. अगर आपके पास आधार कार्ड नहीं है, तो ऐसी स्थिति में मतदाता पहचान पत्र या राशन कार्ड को इस्तेमाल किया जा सकता है. कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, सरपंच या लोकसेवक या उचित अधिकारी की ओर से जारी किया गया पत्र. पहचान पत्र के तौर पर नरेगा में जारी किया गया जॉब कार्ड इस्तेमाल किया जा सकता है या फिर मान्यता प्राप्त संस्थान का पहचान पत्र भी लगाया जा सकता है. एड्रेस प्रूफ के लिए बिजली का बिल या टेलीफोन का बिल या फिर जन्म या विवाह का प्रमाण पत्र लगाया जा सकता है.

Top Downloads